Breaking News

IHFL मामला: कंपनी ने व्हिसलब्लोअर्स पर उठाए सवाल, सुप्रीम कोर्ट से तुरंत सुनवाई की मांग

नई दिल्ली। इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड ( IHFL )मामला कुछ ज्यादा तुल पकड़ता जा रहा है। अब अब कंपनी ने याचिकाकर्ताओं के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की है। आईएचएफएल ने बुधवार को सर्वोच्च न्यायालय में उसके खिलाफ दायर याचिका की तत्काल सुनवाई की मांग की, जिसमें कंपनी पर 98,000 करोड़ रुपए सार्वजनिक धन के दुरुपयोग का आरोप है। वहीं दूसरी ओर सेबी ने व्हिसलब्लोअरों को पुरस्कृत करने की योजना बनाई है। आपको बता दें कि याचिकाकर्ता और आईएचएफएल शेयरधारकों में से एक अभय यादव ने आरोप लगाया कि समीर गहलौत ने हरीश फैबियानी (स्पेन के एक एनआरआई) की मदद से कथित रूप से कई 'छद्म कंपनियों' का निर्माण किया, जिसे 'आईएचएफएल ने भारी रकम कर्ज के रूप में दिया, जबकि ये कंपनियां फर्जी थीं।'

यह भी पढ़ेंः- ग्रोथ में आई तेजी, मई में खुदरा महंगाई दर 3.05 फीसदी रही, अप्रैल में IIP भी 3.4 फीसदी पर पहुंची

कोर्ट के सामने कंपनी ने रखा अपना पक्ष
कंपनी की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता एएम सिंघवी ने एक अवकाश पीठ के सामने मामले की तत्काल सुनवाई की मांग की। इस पीठ में न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और अजय रस्तोगी शामिल थे। सिंघवी ने पीठ को बताया कि याचिका में कंपनी के खिलाफ तुच्छ आरोप लगाए गए हैं और याचिका मीडिया में लीक हो गई है। उन्होंने कहा कि कंपनी के खिलाफ याचिका दायर करने के बारे में प्रकाशित मीडिया रिपोर्टों के कारण, आईएचएफएल ने अपनी बाजार हिस्सेदारी का लगभग 7,000 करोड़ रुपए का नुकसान उठाया है। पीठ ने कहा कि वह इसकी तत्काल सुनवाई पर दिन के दौरान निर्णय लेगी।

यह भी पढ़ेंः- पोर्क की वजह से चीन में बढ़ी महंगाई, 15 माह के उच्चतम स्तर पर पहुंची

कंपनी के शेयरों में लगातार गिरावट
इस आरोप-प्रत्यारोप के खेल में कंपनी को भारी नुकसान हो रहा है और कंपनी के शेयर रोज गिर रहे हैं। बुधवार को, यह फिर से 7.88 फीसदी या 53.15 रुपये की गिरावट के साथ 621.40 पर बंद हुआ। सर्वोच्च न्यायालय और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) को इस मामले में व्हिसिलब्लोअरों की स्थिति और उनकी याचिका पर कार्रवाई की स्थिति को स्पष्ट करना चाहिए। सत्य की रक्षा करना सबसे महत्वपूर्ण होना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः- Bank of England के गवर्नर बन सकते हैं रघुराम राजन, रेस में इकलौते विदेशी

सेबी ने व्हिसलब्लोअर्स को पुरस्कृत
इसके अलावा, सेबी ने व्हिसलब्लोअर्स को पुरस्कृत करने की योजना बनाई है। सेबी ने कहा कि वह मुखबिर को घोटाले की पकड़ी गई रकम का 10 फीसदी देकर पुरस्कृत करेगी, हालांकि यह रकम एक करोड़ रुपए से अधिक नहीं होगी। सेबी ने कहा कि पुरस्कार का भुगतान निवेशक सुरक्षा और शिक्षा निधि ( आईपीईएफ ) से किया जाएगा। निवेशकों के हितों की रक्षा करने और इनसाइडर ट्रेडिंग के मामलों पर अंकुश लगाने के लिए, नियामक सेबी ने एक मुखबिर तंत्र का प्रस्ताव दिया है, जिसमें वास्तविक व्हिसलब्लोअर को कंपनी में धोखाधड़ी और गलत कामों को उजागर करने के लिए पुरस्कृत किया जाएगा। सेबी ने कहा कि यह इनसाइडर ट्रेडिंग के मामलों का जल्द पता लगाने के लिए तंत्र को मजबूत करने में मदद करेगा।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal http://bit.ly/2IHlA93

No comments